सोमवार, 21 मई 2018

पाप का घड़ा (कविता )

                                 पाप का घड़ा  (कविता )

                                               बड़े-बुज़ुर्गों से सुनते आये हैं,
                                              महान शास्त्रों में भी लिखा है .
                                              परम ज्ञानियों से सूना है,
                                              धार्मिक फिल्मों में देखा है .

                                            कोई पापी लाख करे चतुराई ,
                                           हेरा-फेरी उसकी कभी कम न आई  .
                                           जब भी भरा उसका पाप का घड़ा ,
                                           भगवान् ने एक एक लाठी से चोट लगाई.

                                          मगर आज के दौर को देखते हुए ,
                                          कैसे कर ले हम यकीं  .
                                          भर चुके हैं जाने कितने ही पाप के घड़े,
                                          अभी तक किसी का भी घड़ा फूटा नहीं. 

                                          सरकार से लेकर चपरासी तक,
                                          और समाज का हर आदमी .
                                          भर चुके हैं इतने अधिक  घड़े ,
                                          और पापों को सामने की जगह नहीं.

                                          बलात्कार ,भ्रष्टाचार , काला - बाजारी,
                                           लूट-खसोट ,जालसाजी और हिंसा .
                                          देश को लगे जाने कितने भयानक रोग,
                                            करना मुश्किल है हर पाप की मीमांसा ,

                                           इन समस्त पापों से  लबालव भरा हुआ है,
                                           हर एक जन का पाप का घड़ा .
                                           देखो किस तरह समाज में तीक्ष्ण दुर्गन्ध ,
                                          फैला रहा है  इन सब के पाप का घड़ा.


                                          साँस लेना दुर्भर हो रहा है  किसी सज्जन ,
                                           पुरुष ,बच्चों और नारी के लिए.
                                           सब  तरफ दलदल  ही दलदल है,
                                          चलना मुश्किल है  हमारे लिए.


                                          धरती भी हो रही पाप के बोझ से भारी,
                                          'उसे' मगर  खबर ही नहीं.
                                           यह  सड़ांध भरी,ज़हरीली  दुर्गन्ध ,
                                           यूँ लगता है 'उसके 'दरवाज़े तक पहुंची नहीं.


                                            अब तो  हमारे बर्दाश्त की हद हो गयी ,
                                            '' उसमें '' ना जाने कितनी बर्दाश्त बची है.
                                            पाप के घड़े खुद फूट जाने की कगार पर है,
                                             क्या ''उसकी ;''खामोश लाठी टूट चुकी  है?

                                             हम तो कर रहे अब भी  इंतज़ार ,
                                             बड़ी बेताबी से ,बड़े अरमां से .
                                            कभी तो आये  खुदा को इतना जोश ,
                                            की फोड़ डाले सभी पाप के घड़े एक ही चोट से. . 
                                            


                                          
                                          

                                            

मंगलवार, 15 मई 2018

यह झूठा दिखावा क्यों ? ( कविता)

                               यह  झूठा  दिखावा क्यों ?  (  कविता) 

                               आदर   है या  नहीं  अपनी माँ के लिए दिलों  में ,
                               मालूम नहीं ! मगर  दिखावा  तो करते  हो .

                              साल भर  तो पूछते नहीं  माँ की खैर -खबर भी,
                             गनीमत है यह भी मदर'स डे के दिन पूछ लेते हो. 

                             माँ की नेकियाँ, सेवा, स्नेह और ममता का मोल ,
                             तुम बस इस खास दिन को ही क्यों याद करते हो ? 


                             अपार वेदना सहकर जिस माँ ने तुम्हें जन्म दिया ,
                             उसी माँ  के दिल पर अक्सर चोट पहुंचाते हो.

                                 
                             याद नहीं क्या तुम्हें तुम्हारी हर ज़रूरत/ चाहत के लिए ,
                             माँ ने की  कुर्बानी ,उसी माँ से तनख्वाह अपनी छुपाते हो. 


                            यह कैसा प्यार  है तुम्हारा ,क्या समझे वोह भोली माँ ,
                            पाई -पाई के लिए तरसाने वाले ,एक दिन महंगे तोहफे लाते हो.


                            तुम्हें तो विधाता ने  माँ दी ,तुम्हें तो उसकी कद्र नहीं,
                            माँ की ममता को तरसे हुए उन बदनसीबों से जाकर पूछते हो ? 


                             लाये हो जाने कहाँ से यह बनावटी प्यार दिखने का अंग्रेजी तरीका ,
                            अपनी  संस्कृति /सभ्यता को भूल गए , खुद को फिर भी इंसा कहते हो !!


                             यह मदर्स डे / फादर्स  दे मनाना  फ़िज़ूल है ,बकवास है ,
                             बनना है तो श्रवणकुमार से बनो ,क्या बन सकते हो ?
                             

मंगलवार, 8 मई 2018

मैं और मेरा भारत (कविता )

                           मैं और मेरा भारत  (कविता ) 

                                          मेरी  और मेरे भारत की  ,
                                          किस्मत है  एक जैसी .
                                         कभी  उबड़ -खाबड़ रास्तों ,
                                         कभी समतल मैदान जैसी .
                                         कभी  जिंदगी के तुफानो में 
                                         हिचकोले खाती ,तो  
                                        कभी  तुफानो से पार लगती सी .
                                        कभी आशा -निराशा में झूलती ,
                                       कभी  आनंद-उत्सव मनाती सी. 
                                       टूटी हुई नाव कहेंया जर्जर ईमारत ,
                                       मगर जीने का होंसला रखती सी .
                                       कभी आस्तीनों के साँपों  से झूझती ,
                                       तो कभी दुश्मनों  का सामना करती .
                                       कभी  गुज़रे हुए सुनहरे ज़मानो और ,
                                      गुज़रे हुए अपने  प्यारों को याद करती .
                                       अब भी हैं कुछ शेष  हमनवां  ,हमराज़ ,
                                       जिनके प्यार को  संजोये हुए है वोह.
                                       दिल टूट चूका है फिर भी ज़िंदा है,
                                        टूटे हुए दिल को जोड़े हुए है वोह. 
                                        अरमां है, चाहतें ,कुछ ख्वाब भी हैं,
                                         शेष हैं अभी  ,खत्म तो नहीं हुए .
                                         जाने किस जीवनी शक्ति  से प्रेरित,
                                          होकर उसने आशा के दीप हैं जलाये हुए .
                                          किस्मत अब कैसी भी है अच्छी या बुरी ,
                                           विधाता ने जो नियति  में  लिख दी.
                                          बदली नहीं जा सकती ,है हमें मालूम .
                                           मगर जब तक साँस है ,तब तक आस है ,
                                            मौत से पहले ही  मर जाये ,
                                             सुनो मेरे प्यारे वतन ! ऐसे तो कायर 
                                            नहीं है न हम !! 
                                            
                                          
                                         
                                       

सोमवार, 23 अप्रैल 2018

अब आंसू बनजायेंगे अंगारे ... ( निर्भया और आसिफ़ा की वार्तालाप शैली में कविता)

                                          अब आंसू  बन  जायेंगे   अंगारे ...  

                               (  निर्भया और  आसिफ़ा की वार्तालाप  शैली  में  कविता) 

                                                 स्वर्ग  में आते देखकर ,
                                                 आसिफ़ा और   नन्ही  बच्चियों को ,
                                                 मुरझाई हुई , कुम्हलाई हुई सी ,
                                                 क्षति ग्रस्त ,टूटी हुई  कलियों को ,
                                                निर्भया  के मुख से आह निकल पड़ी .
                                                लिपटाकर  अपने गले से  बड़ी बहिन,
                                                फफक-फफक  कर रो पड़ी .
                                                
                                                उन  बच्चियों को जब  उसने  ह्रदय से लगाया ,
                                                घायल  रूह , जर-जर जिस्म और  आहत आत्म-सम्मान,
                                                सब  मंज़र एक साथ आँखों के सामने आया .
                                                कैसे  एक कचरे  की तरह  सड़क पर फैंका गया उसका 
                                                 लहू-लुहान ,अधमरा  सा  तन , सब याद आ गया. 

                                                
                                                क्या   इन  नन्ही  बच्चियों के साथ भी  ,
                                                वही  दरिंदगी  दोहराई गयी ?
                                                क्या   इंसानियत  अभी तक होश में  नहीं आई ? 
                                                युवतियां  तो क्या  ,बेचारी  मासूम  बच्चियां भी ,
                                                इनके वेह्शिपन  के निशाने  पर आई .

                                                पूछा  उसने   आसिफ़ा  से  कंपकपाते हुए ,
                                                '' क्या हुआ  बहिन !  तुम्हारे  साथ यह  क्या हुआ ? 
                                                और क्यों? 
                                                क्या   समाज  में  , कानून में  ,पुरुषों की सोच में 
                                                कोई बदलाव नहीं हुआ ? ''
                                               कहा आसिफ़ा ने सूबकते हुए ,'' नहीं दीदी !
                                               कुछ भी नहीं बदला .'' 

                                               ना समाज बदला ,ना कानून बदला ,और ना ही 
                                               पुरुषों की सोच बदली .
                                               पुरुषों  के लिए नारी बस  भोग्या थी ,और अब भी है ,
                                                 और रहेगी.
                                              कोई भी  मिले , शिशु कन्या,  नन्ही  बालिका  ,युवा  और
                                              बुज़ुर्ग ,उनकी नज़र में   नारी   -नारी ही रहेगी .
                                               इंसान   नहीं   वोह   इनके लिए ,एक वासना पूर्ति का जरिया है.

                                               क्या  करें?   इस पुरुष समाज  का हमारे प्रति  ऐसा ही 
                                              घिनोना रूप  और   कुत्सित  नजरिया है .
                                               जानवरों  से भी  बदतर  करते हैं  यह हमारे साथ  ,
                                               वेहशियाना  सलूक .
                                                और उसके  बाद   मार डालते हैं  जान से , और फेंक  देते  हैं
                                                गंदे नाले में ,जला डालते हैं  हमारे क्षत -विक्षत शव को भी ,
                                                 ताकि ना मिल सके   किसी को कोई सबूत .
                                                 और कभी-  कभी  तो लाश के साथ भी .......
                                                   दीदी ! हमारे साथ  भी ....

                                                  कहकर अपना   फ़साना   आसिफ़ा फूट- फूट  कर रो पड़ी .
                                                   और उसके साथ अन्य  मासूम बच्चियां  भी   रो पड़ी .
                                                   बहनों   के दर्द से   निर्भया का  कलेजा  चीर गया ,
                                                    आँखों से   फिर लहू   बनकर   आंसुयों  का दरिया  उमड़ गया.
                                                    
                                                    गले लगाकर   अपनी  दुखी बहनों को ,
                                                     होंसला देते हुए  निर्भया   बोली ,
                                                    '' कोई बात नहीं   बहनों !  हमारे   दर्द, हमारी आहें 
                                                    अब रंग   लायेंगी.
                                                    यह आसू हमारे अंगारे बनकर ,इस   पाप-से भारी हुई धरती को ,
                                                     जलाएगी.
                                                      जब इस देश  की अदालत ने  हमारी  फरियाद नहीं सुनी ,
                                                        तो  खुदा की  सबसे बड़ी अदालत  हमारी फरियाद सुनेगी .
                                                      और अब देखना  तुम ,
                                                     अब कयामत   बस आने को  है ,और आकर रहेगी.  ''

                                                   


                                                 
                                                
                                              

                                       
                                           
                                               
                                              
                                                
                                                  
                                              

सोमवार, 16 अप्रैल 2018

खुदा है भी या नहीं ! (ग़ज़ल)

                                            खुदा  है भी नहीं !  (ग़ज़ल) 

                             सूना  था  कभी  अपने  बुजुर्गों से  ,याद  रखना ,
                             खुदा की ज़ात से ना  कभी  इंकार  तुम करना .


                            खुदा  का वजूद है  हकीक़त है वो  ख्वाब  नहीं,
                           किसी भी सूरत मैं उसपर अपना यकीं मत खोना . 

                         
                            किस्मत गर रूठ जाये,बेशक  ज़माना  बदल जाये ,
                            लेकिन वोह तुम्हारे साथ है  ये  इत्मिनान रखना .


                            सुना तो ये  भी है उसके  पास है बहुत बड़ी अदालत,
                            अपने  इन्साफ  के लिए  उसका दरवाज़ा खटखटाना .


                            खुदा  के घर देर है  अंधेर  नहीं ,यह भी  याद रखना ,
                            सब्र लिए दिल में उसकी  रहमत का इंतज़ार करना .


                           मगर आजकल  जैसे हो रहे है  हमारे  वतन  के हालात ,
                           तो बहुत मुश्किल है सब्र और इत्मिनान  खुदा  पर रखना .


                           नहीं है  ना उसकी नज़रे करम  इस  बेचारी  धरती  पर,
                           तब तो  वाजिब है  न शैतानो  के होंसले बुलंद  होना. 


                           वेह्शियों के बीच  फंसी  रोटी-बिलखती  अबला को,
                           ज़रूरी  है न   खुदा को आकर उसकी   लाज बचाना .


                           मगर  ! यह सच है ,नहीं सुन रहा  ,खुदा किसी की पुकार ,
                           कर देता  है  वोह आजकल ,दर्द भरी  चीखों को अनसुना.


                          खून- खराबा ,क़त्ल  और बलात्कार का छाया  है  अन्धेरा ,
                         मगर अब उसका काम रह गया है परदे के पीछे से तमाश  देखना .


                         कोई तो उसे पुकारो ,कोई तो सदा दो, है किसी की आहों में दम ,
                         कहो उसे जाकर  अच्छा नहीं है यूँ  मजलूमों से निगाह  फेरना.

                         दुनिया के मालिक बने फिरते हो ,तो क्यों नहीं आते जोश में ,
                          मिटा  दो  सारे पाप की जड़  को  ,और  कहो  आकर ''मैं  हूँ न "!

                     
                         खुदा ! तुम हो  भी या  नहीं ,यह साबित  करके दिखाओ ,
                         लेकर अवतार धरती  पर  बेहद ज़रूरी है तुम्हारा कदम रखना .
                         
                           


                        
                          
                          
                           


                           


                             


                             

गुरुवार, 12 अप्रैल 2018

चुगली का बाज़ार गर्म है ... (हास्य-व्यंग्य कविता)

              चुगली  का बाज़ार गर्म है ...  (हास्य-व्यंग्य कविता) 

                          
                             चुगली का बाज़ार  गर्म है ,
                             समाज में  लोगों के बीच ,
                             राजनीति में नेताओं के बीच ,
                              इसका बड़ा प्रचलन है. 
                               

                            है यह अनूठा कर्म ,
                             बड़ा ही  रोचक  
                             जगत-प्रसिद्ध और,
                             रोग है यह बेहतरीन .


                            रोग ही तो है यह,
                            सबके उदर में  जन्मता है.
                            कर ना ले किसी की जब तक निंदा ,
                             दर्द  बनकर उमड़ता रहता है. 
                            और जब  निकल जाये सारा गुबार ,
                             तो अहा ! आनंद ही आनंद ! 



                             गुफ्तगू  तो बस बहाना है ,
                             मकसद तो बस भड़ास निकालना है .
                             सास -बहु  के रिश्तों को  ,
                              मालिक-नौकर के रिश्तोंको ,
                             दो मित्रों ,दो सखियों के संबंधों को ,
                             इसने  खट्टा-मीठा और नमकीन बनाना है.


                             भला  कोई पूछे  चुगल खोरी में बुराई क्या है,!
                             यदि  आप सुन ले  किसी की चुगली ,
                               तो इससे बड़ी समाज सेवा क्या है. ?
                              सुकून और शांति महसूस करेगा कोई ,
                              आपको दुआएं ही देगा .
                              चलो ! दुयाएँ  भी न  दे , किसी और आगे ,
                               फिर आपकी भी चुगली करेगा  ,
                              तो कोई बात नहीं ! भगवान् तो देख रहा है ना !
                               सो नेकी कर और डाल  दरिया में ..


                             चुगलखोरी को हेय  दृष्टि  से ना  देखिये ,
                              है यह  अति -उत्तम व् मनोरंजक  काम .
                              अन्यथा   देवी-देवताओं  को परस्पर  लडवा कर भी ,
                                देवश्री नारद   क्या पाते  लोकप्रियता व् सम्मान  .
                                है यह चुगल खोरी उन्ही का अनुसंधान .

                                 
                              
                               शुक्र कीजिये  सृष्टिकर्ता ब्रह्मा  का ,
                                जिन्होंने   जन्मा नारद रूपी  नगीना .
                                वरना  बिना  चुगली  इस निस्सार  संसार में ,
                                जिंदगी  जीने का मज़ा  आता कभी ना !

                             
                              बस अब अंत में   हमारी  प्रार्थना  है आपसे ,
                              चुगलखोरी को  चुगल खोरी  ही रहने दीजिये  .
                               फैलाकर ग़लतफहमी परस्पर
                               समाज  के लोगों में ,
                               सभी इंसानी रिश्तों में ,
                               विघटन  और  वैमनस्य  ना आने  दीजिये.
                              
                                 
                                 
                              
                                
  
                               
                               


                             
                             
                            
                           
                            
                            

शनिवार, 7 अप्रैल 2018

आशिक मिजाज़ आलू महाराज ( हास्य-व्यंग्य रचना )

                          आशिक मिजाज़ आलू महाराज ( हास्य-व्यंग्य रचना ) 

                                         यह आलू महाराज  हैं  बड़े  आशिक़ मिजाज़ ,
                                         हर सब्जी पर  डालते  हैं  ये डोरे .

                                         इश्क फरमाते हैं गज़र,मटर ,बींस ,फूल गोभी से ,
                                         नैन मटक्का  बैंगन ,पत्ता-गोभी , सेम केसाथ .
                                         बना लेते हैं यह सब के साथ अपनी जोड़ीयां ,
                                         उनके लिए गायेंगे ''दिल भी तेरा ,हम भी तेरे . 


                                          इनकी फ़राख दिली  के बारे में कहना ही क्या ,
                                          करेली जैसी और कड़वी ,बोरिंग सब्जियों से भी निभा लेते हैं,
                                          हरी पत्तेदार सब्जियों से भी  इनकी थोड़ी-थोड़ी है यारी,
                                          कहते हैं आशिकाना अंदाज  में '' बिन फेरे हम तेरे '' .



                                          यह तो  वोह सब्जियां  हैं  जिनके बिना हैं यह अधूरे , 
                                          और यह सब्जियां हैं  इनके बिना  अधूरी . 
                                           मगर कुछ ऐसी  सब्जियां भी हैं  जनाब ! 
                                           जिनके सामने  इनकी डाल  नहीं गलती .
                                            वोह हैं घिया ,पैठा ,टिंडा  और  तोरी . 
                                            यह दुत्कारती हैं इन्हें ''दूर हट छिछोरे! '' 

                                             महाराजा है  आप तमाम सब्जियों के ,
                                             मगर  यह  नामुराद सब्जियों  करें तुम्हारी बेइज्जती.
                                             कोई बात नहीं ,दिल छोटा मत करो  आलू जी ,
                                             इनके इस  क्रोध  में  इनकी  कुढ़न  है बोलती .
                                             दरअसल यह सब्जियां हैं आपकी खुश किस्मती से जलती. 
                                              क्योंकि  आप रूपवान सब्जियों  से सदा रहते हैं घीरे .


                                              आप तो  हैं  जन-जन  के ह्रदय सम्राट , सबके दुलारे ,
                                              बच्चे की तो जान हैं आप  और बड़े-बूढों  के भी  प्यारे .
                                              कोई चंद  नासमझ लोग ना  महत्त्व दे आपको ,
                                               इससे क्या फर्क पड़ता  है ?
                                               जो मिले प्यार से , सम्मान से , उसे  अपना बनाते चलो ,
                                               ज़माने का  दस्तूर यही कहता है. 
                                                बाकि हम तो सदा  कहते हैं और अब भी कहेंगे ,
                                                आप सदा  सलामत रहे , आपके बिना भोजन के 
                                                 सारे स्वाद  है अधूरे.