शनिवार, 18 अगस्त 2018

यह निम् ख़ामोशी ( कविता ) { स्व पूर्व-प्रधान मंत्री और महा कवि अटल बिहारी वाजपेय जी की याद में शर्धांजलि स्वरूप रची गयी कविता )


                                       

                                   कई सालों से  खामोश थे तुम ,
                                  और तुम्हारी कलम भी खामोश थी .

                                  ज़िन्दगी और मौत से लड़ रहे थे ,
                                  मगर यह  जंग तो आख़िरी थी .

                                 फर्क तुमने कथनी/ करनी में ना किया,
                                 मौत और काल से जितने की जो ठानी थी .

                                साहित्य के महारथी /राजनीति के महागुरु ,
                                तुम्हारी महानता के समक्ष मौत नगण्य थी .


                                 ओजस्वी वाणी और  सिंह सा बाहू-बल ,
                                  सारी दुनिया  तुम्हारा लोहा मानती थी.


                                 दिल  में अथाह प्रेम और  सोहाद्र ऐसा ,
                                 शत्रु कोई था नहीं,मित्रता सभी  से थी .

                                हे जन नायक ,जन कवि , जन नेता!,
                                सारे देश की मुहोबत सदा तुम्हारे साथ थी .

                               सच्चाई, देशप्रेम ,सादगी और सद चरित्रता,
                               तुम्हारे पवित्र व्यक्तित्व की पहचान थी  .

                               यूँ तो  खामोश थे तुम कई सालों  से मगर ,
                               इस निम् ख़ामोशी की  हमें उम्मीद ना थी .

                              तुम्हारी सलामती की दुआ करते रहे हम सदा ,
                              हम क्या जाने भला, ईश्वर की क्या मर्ज़ी  थी.

                               हम तो  तुम्हारे  छत्र -छाया  में रहे बेखबर ,
                             यह बिजली हमपर ही  क्यों आखिर गिरनी थी.

                             अब तो जीना होगा तुम्हारे बगैर , सो जी लेंगे ,
                           पूरा करेंगे देश की वो तस्वीर,जिसकी कल्पना तुमने की थी.

                        
                            यह भरोसा करकेके तुम मरके भी हो हमारे साथ,
                            सदा उन राहों पर चलेंगे ,जो राह तुमने हमें दिखाई थी.